TV Interview with Music Director Shankar (Shankar-Jaikishan)

Custom Search

Tuesday, October 6, 2009

संगीतकार शंकर (शंकर-जयकिशन) का दूरदर्शन पर साक्षात्कार - हिन्दी लिप्यन्तरण

(This interview was telecast on Doordarshan in 1984 under the programme ‘Phool Khile Hain Gulshan-Gulshan’).
Clip of the song ‘Aye gulbadan’ (Film – Rajkumar) is shown.

Tabassum: You know very well of the hardships any bud has to face before blossoming into flower and give fragrance. How did the art of our today’s guest blossom, listen to it in his own words! Shankarji!

Shankar: You’ve asked a very good question. My (professional) life started from Prithvi theaters. And as you know, I got to learn a lot of things and opportunity to do a lot of good work in that theatre. And whatever I am today is only because of that. Whenever the theatre used to go for outstation tours, we used to do some extra good work. For example, after the stage shows, whenever some local instrumentalists were available, I used to catch hold of them. The other artists, already tired after the shows, sued to be angry with me – oh this person keeps on doing something or the other, brings somebody or the other. So it was my habit to sing-play (instruments), listen (to others) and gain something out of it. Papaji liked this attitude very much.
Tabassum: Prithviraj-ji!?
Shankar: Prithviraj-ji! Because he was very…I mean… fond of classical music. So singing-playing used to happen this way. On tours we used to have such programs somewhere or the other.

Tabassum: May I beg your pardon!? You did not tell how did you join the theatre!
Shankar: Oho! When I came to Bombay (now Mumbai) for the first time in 1944, I had Papaji’s darshan at Afroz near Dadar music school. When I saw him, I felt probably no other hero could be more handsome than him. Because… I mean… the status or… handsomeness or personality that was, I was dumbstruck after seeing it. I was a small (….??). I knew that he was going to start a new drama – Shakuntala. So I asked him, “Papaji, will you give me some work?” He asked, “What can you do?” I said, “I play tabla very well, harmonium too very well, I can do a little bit of dance as well and if there are some dialogues, I can say them as well on the stage.”
Tabassum: All rounder!
Shankar: All rounder! So he liked this very much. So there is (…??) in Dadar – you might have heard, the theatre rehearsals used to be held there. So I went one day. In the theatre there in two halls... great artists were sitting in the rehearsal hall. After seeing them, I started wondering, "I am nothing in front of these persons.” Then (…??) said to me, will you play tabla for us? I said – with your due permission, why not! By luck, Ali Akbar saheb was also there. (So that person asked) me,” Will you give accompaniment to Ali Akbar saheb?” So I said, I will play solo for 2 minutes and then give him accompaniment. So after I played solo for 2-4 minutes, the audience liked it very much and highly applauded.
Tabassum: And you got foothold in Prithvi theatres.
Shankar: Got foothold! So my (professional) life took off from there. We continued to go on outstation tours. Incidentally Raj saheb started making the movie i.e. Barsaat. So whenever he used to meet, he would say,” You keep on composing songs; I will take if I like them.” So I composed many songs but he did not like any of them. I used to say, “You keep on getting them composed but never accept them!” Incidentally, once our theatre group went to Pune. It was night time, I took the ‘baaja’ (musical instrument). Sitting at the ‘baaja’, I said, “Raj saheb! Please sit and listen to this tune – whether you like it!” I played that song ‘ambuva ka peD hai, vohi munder hai, aja more baalma, ab kahe ko der hai’. As soon as he listened to it, he said, “Let us go to Bombay and record the song.” So we came to Bombay. And after coming back, he was relay serious and got after me – to make him listen that song! So Hastrat miyaan came to write that song.
Tabassum: Ok then what lyrics did Hasrat bhai write to that tune?
Shankar: Jiya beqaraar hai, chhayi bahaar hai, aja more baalma, tera intazaar hai.”
Tabassum: OK. This was an evergreen song.
Shankar: Oh yes!
Tabassum: Shankarji – a music composer - is sitting here and instrument is also there. We would avail of the opportunity of your presence and availability of instrument. So may I request you to demonstrate how did you make this “ambuva ka ped – jiya beqaraar?”
Shankar: Come…. (plays harmonium and hums ‘ambuva ka ped hai, jiya beqaraar hai, chaayi bahaar hai, aja more balma, ab kaahe ko der hai, jiya beqaraar hai.’
Tabassum: Please come, Shankarji. Ahh……. Shankarji! Even today whenever we say that Shankarji has come then people say – who – that of Shankar-Jaikishan duo? So may I know how was this pair formed?
Shankar: It is like that when… I used to work in theatre, there was need of a harmonium player. So then I brought Jaikishanji there for the job. When I brought him, Papaji recruited him. With that, the rain (barsaat) which commenced after formation of pair, till today it has been raining, it has been raining. When we used to work together, neither of us ever thought that he was doing or I was doing. Such thought never crossed our minds. We used to only think about getting fame, success and the whole world should talk about us. In our hearts only this …..
Tabassum: And you achieved your aim. Ok Shankarji! Just like the pair of composers Shankar-Jaikishan became famous, same way two writers were always associated with you – Shailendraji and Hasrat Jaipuriji. May we know how you used to utilize these two writers? Whether there used to be one writer with you and one with Jaikishanji?
Shankar: No, it was not like that. The thing is, we used to give the songs of the type of Shailendra to Shailendra and the songs of the type of Hasrat to Hasrat.
Tabassum: If I wish to know the difference between the two types?
Shankar: Oh yes! For example, Shailendra (wrote) ‘hotho pe sachchai rehti hai, jahan dil mein safai rehti hai, hum us desh ke vaasi hain, jis desh mein ganga behti hai’ and that of Hasrat is ‘teri pyari-pyari soorat ko kisi ki nazar na lage, chasm-e-baddoor.’
Tabassum: OK. That means there is more tazazzul(??) and romance in it.
Shankar: Yes.
Tabassum: OK
Shankar: By the way none of them was inferior to the other. And I feel the name these two writers earned and the number of their songs were hit, I think probably……. it is rare.
Tabassum: OK Shankarji! Please also tell us when you came into films, who were the famous voices of that era?

Shankar: Then, I think Shamshad bai, Zohra bai, Amirbai KArnataki and Rajkumari and Khurshid, Suraiya and Noorjahaan was also there.
Tabassum: Yes.
Shankar: So there were big singers like these. But one day I went to Jupiter studio where I saw a girl who had come for audition with Husnlalji.
Tabassum: You are talking about the pair Husnlal-Bhagatram.
Shankar: Yes. They were great people. So there she gave audition but he did not like the voice. And she returned. So I don’t know why that voice remained in my mind, when I composed the song ‘jiya beqaraar hai’ for ‘Barsaat’, I called that girl. And when called you would not think that this girl would sing or was capable to sing. No such thing was visible in her.
Tabassum: This is what I wanted to ask you that why did you decide to get this song sung by Lataji instead of using the famous voices of that era?
Shankar: Because Tabassum! The thing is that since childhood there are some such things in me. Because OK, if they (other singers) are famous, let them be. But it cme to my mind then I was myself new, there was no certainty in my life. But I liked that girl’s voice. Liked it because it was in my mind that only she will sing. We brought her for one song, we made her sing all the songs. She is Lata Mangeshkar.
Tabassum: Now I would like to know what kind of mutual relationship used to exist between the music composers and singers.
Shankar: It was very good then.
Tabassum: Just like teacher-disciple!
Shankar: Absolutely like teacher & disciple. To respect each other, maintain junior-senior level difference, all these things were there. And there was lot of love among the music directors. And singers also used to mingle with each other very well.
Tabassum: Shankarji! Now you have given lot of voices for playback singing to film industry.
Shankar: Yes. When we brought C.H.Atma then Pancholi saheb, what position and importance he had! He was so taller than me, I used to appear like a small person standing under a tree! So he asked “oh you have entered (film industry) just now and you are making new comers sing?” Then I sais,”Pancholi saheb, we want only him to sing.” So he said, ‘Your… daring must be appreciated – you are yourself new and making new comers sing.’ You must have heard C.H.Atma. So we made even the like of him sing. This also worked. So like this so many…..
Tabassum: What was the special thing in Shardaji’s voice that you gave her chance?
Shankar: Just like we brought Lata, we did not see anything special in her. We brought her without seeing anything. We brought because in her, the type which was there in the voice of Sharda, was unique in its own.
Song clip shown… Dekho mera dil machal gaya (Sharda, Film-Suraj)
Tabassum: For every famous personality related to the film world, audience wants to know as much details as possible. And they come to know many things. But Shankarji, about your family, people have not come to know much details. The reason behind it?
Shankar: It is like that, the person who has spent 27 years in film line, who knows everything about film world that what kind is film line, how people lievein it, what do they talk then how can I coomit the mistake of bringing my family into film line? Do the job only where you work, it is better, why to put in this trouble, the trouble which I am in! It is the matter of time, (we) have done good work due to which (I) am visible here. Otherwise so many have come here and gone!
Tabassum: For any song the first thing is situation, after that lyrics and the third number comes of the tune – people think that way. How far do you agree with this?
Shankar: It is like that what we do, first we compose tune. Since beginning we compose tune first.
Tabassum: That means what we said the third thing, that is the first for you!
Shankar: It is the first. Because it imparts new weight, new rhythm is created, there is new style and for the lyricist too a ….er.. different rhythm and style. So what happens due to it, suppose there is a lyricist, there are only three things for him – either dadra or roopak or kaharwa. So if we take a song written on that, the weight to emerge will be the same. It is very difficult to transform.
Tabassum: Variety obtained will be less.
Shankar: Yes. So like there are the counts taa-taa-taa, ta-taa-tik-taa,taa-taa. So how would this weight be known by the lyricist? Like ‘kaise jaaun, kaise maanun, aja-aja.’ So writing lyrics to this rhythm will make the song different. Therefore it has become our habit to write the songs on weight. But it is very painful to write. Because the lyricist thinks how to fit the words to it, The rhythm gets broken! Those poor fellows face a lot of problem. But in the end, that song…..
Song clip shown … Geet gaata hoon main (Lal Patthar)
Tabassum: OK Shankarji, don't you feel the lyricist should be given enough freedom so that he doesn’t write on meter; first write the song so that he has high flying thoughts?
Shankar: No in that there are many good songs in our life. But then the meter doesn’t reach the people. People don’t remember it. Like, most of our songs, at least 75 out of 100 have been written on rhythm, on weight.
Tabassum: That means people get praise but the song doesn’t get popularity.
Shankar: Doesn’t get popularlity.
Tabassum: OK then before moving ahead, let us show that song which had lyrics first and then the tune…!?
Shankar: Oh yes! Oh yes
Song clip shown…. Ja-ja-ja mere bachpan (Junglee)
Tabassum: After getting the song made, you select the voice or your producer or director?
Shankar: It is like that till date only we have done that. We select and the voice as per our liking…… that is why there is a lot of honesty in this work. We never considered our personal interest, neither did we think about our personal interest. If we had thought about our personal interest, we would not have survived for so many years. There is no question about it! But the time that has come, the time is such that the music director cannot influence anything. Neither does music director r understand anything, nor do (people) understand us in the industry presently. They expect, whatever idea they give, compose it and give it to them! That is the best thing. So you are observing what is happening in today’s times – music is getting spoiled.
Tabassum: You select the voice as per your liking?
Shankar: What?
Tabassum: After making the song, you yourself select the voice?
Shankar: Yes.
Tabassum: So did you ever try giving variety in it? Like Mukesh was connected to Raj Kapoorji. So did you never try that for Raj Kapoorji’s face you get somebody else to sing instead of Mukesh?
Shankar: Yes! Manna Dey, got to sing Manna Dey. Absolutely! Manna Deyji’s voice matches. And it is not necessary that either Mukesh or Manna Dey should sing. There isn’t anything like that. After the song is made, we select the voice according to it.
Song clip shown… Chham-chham baaje re paayaliya (Jaane-Anjaane)
Tabassum: You also use a lot of classical music in you music. Any special reason for it?
Shankar: The special reason is that we only learnt classical music in the beginning. It is said ‘shri ganeshay namah’, we have done that. First learnt classical, only after that we have learnt other music. Otherwise, if somebody's foundation itself is not strong, I think, how will it be remembered by the people!
Tabassum: But those who know the film line closely, they think that Jaikishanji used to make classical songs and you – those with western touch!
Shankar: No-no. It is not necessarily like that.
Tabassum: So may we know how you used to work?
Shankar: It is like that, if I had died and Jaikishan lived, the same question would have been asked to him (laughs). Is it not - tell me! The question would have been the same. So there is nothing of that sort in it. He too knew classical, I too knew classical. But the work is done jointly. And what else, mostly I have done hard work on classical. The the dance numbers etc. which you see and the big, complicated, I composed almost all of them.
Tabassum: OK id it happen any time that you composed the ‘mukhda’ of one song and he the ‘antara’?
Shankar: Yes.
Tabassum: Did it happen like thsi?
Shankar: Like ‘pyaar hua iqraar hua’. We had a lot of fight in that. We both had team work. We did not keep anything in heart.
Tabassum: OK Shankarji, people feel that after Jaikishanji your name is being seen less in the film world.
Shankar: There is a reason to it. I told you prior to this too that in the present times, a person who has done good work and seen good times, so going to somebody’s house for getting work, indulging in flattery, keep on sitting with somebody, I think this is insulting. If a person has to work with pride then compete against the work! If you need good work, I am there. Be it today or if you want the work similar to that done 25 years back, I can do it. And even today, the music which we made, even today our rhythm is faster than today’s songs.
(demonstrated rhythm and way of composing by humming and using dummy words)
Tabassum: OK Shankarji, please tell how much does the success of anything depend on music?
Shankar: It is fifty percent. Fifty percent, definitely! You consider the history till today. Whichever movies ran, based on music (…) and only they ran.
Tabassum: You have made so many songs during the last 37 years. So may we know which of your tunes do you llike the most, and why?
Shankar: Now this question is like that if you ask a mother which of your 6 children is the best, how can she say – tell me!
Song clip shown …. Zindagi ek safar hai suhana (Andaz)

................................... End ...................................

(यह साक्षात्कार सन् १९८४ में "फूल खिले हैं गुलशन-गुलशन" कार्यक्रम के अंतर्गत प्रसारित हुआ था)

गीत ‘ऐ गुलबदन...’ (फिल्म - राजकुमार) की एक झलक दिखाई जाती है.

तबस्सुम: किसी भी कली को फूल बनकर महकने के लिए किन रास्तों से गुज़रना पडता है, ये आप अच्छी तरह जानते हैं. हमारे आज के मेहमान की कला, कली से फूल बनकर कैसे महकी, ये उन्हीं की ज़बानी सुनिए – शंकरजी.

शंकर: बड़‍ा अच्छा आपने पूछा है. हमारी ज़िन्दगी जो है, पृथ्वी थिएटर से शुरू हुई है. और आपको मालूम है, उस थिएटर में बहुत सीखने को भी मिला है और बहुत अच्छा काम करने को भी मिला है. (....?) तज़ुर्बा मिला है. और उसी की बदौलत जो है, हम आज हैं. क्योंकि जब थिएटर हमेशा जब बाहर टूर को जाया करता था तब कुछ न कुछ हम लोग अच्छा काम भी किया करते थे. जैसे कि कहीं भी थिएटर के बाद किसी शहर में भी थिएटर के बाद कोई गाने-बजाने वाले मिल जाते तो मैं उनको पकड़कर ले आता था. क्योंकि बाकी जो इतने आर्टिस्ट थे वो थक जाते थे ड्रामा के बाद तो वो मुझसे नाराज़ होते थे – यार ये कहीं न कहीं से कुछ न कुछ करता है और किसी न किसी को पकड़ कर ले आता है. तो मेरी आदत थी गाना-बजाना और सुनना और उससे कुछ हासिल करना. तो पापाजी को ये बहुत पसन्द था.
तबस्सुम: पृथ्वीराजजी!?
शंकर: पृथ्वीराजजी को. क्योंकि वो क्लासिकल वगैरह में बहुत..याने...शौक़ रखते थे. तो गाना-वाना होता था. इसी तरीक़े से हम लोगों के हर टूर पर कहीं न कहीं ऐसे ही प्रोग्राम हुआ करते थे.

तबस्सुम: मैं गुस्ताख़ी की माफी लूं!? आपने ये नहीं बताया आपने थिएटर जॉइन कैसे किया! शंकर: ओहो!..... जब मैं 44 से पहले जब मैं बम्बई (मुम्बई) आया तब मुझे पापाजी दादर म्यूज़िक स्कूल है अफरोज़ के पास, वहां उनके दर्शन मुझे हुए हैं. जब मैंने उनको देखा तो ऐसा लगता था, वाक़ई ये इतना ख़ूबसूरत हीरो शायद ही कोई हो सकता है. क्योंकि.... याने ..... हैसियत या .... ख़ूबसूरती या पर्सनैलिटी जो थी उसको देखकर ही मैं खामोश हो गया. मैं तो एक छोटा सा एक (.....?) तो मैंने उनसे पूछा कि मुझे मालूम था कि पापाजी ड्रामा उस वक़्त शकुंतला शुरू करने वाले थे. तो मैंने उनसे पूछा कि पापाजी हमें काम देंगे क्या!? उन्होंने पूछा आप क्या करते हैं? मैंने बोला जी कि मैं तबला बहुत अच्छा बजाता हूं, और हारमोनियम भी बहुत अच्छा बजाता हूं, थोडा-बहुत डांस भी करता हूं और स्टेज पर अगर कोई छोटे-मोटे डायलॉग्स हों तो वो भी मैं बोल सकता हूं.
तबस्सुम: ऑलराउण्डर!
शंकर: ऑलराउण्डर! तो उनको ये बहुत अच्छी लगी बात. तो उन्होंने दादर में (.....?) है आपने सुना होगा, वहां हमेशा थिएटर के रिहर्सल वग़ैरह वहीं हुआ करती थी. तो मैं गया एक दिन. तो साब! थिएटर में वहां पर दो हॉल में...रिहर्सल हॉल में बड़े-बड़े कलाकार बैठे थे. तो उन कलाकारों को देख के मैं बड़ा सोच में पड गया – भाई हम तो कुछ भी नहीं हैं इनके सामने! तो (.....?) ने हमें बोला कि ज़रा आप तबला सुनाओगे क्या? मैंने कहा, अगर आप इजाज़त दें तो मैं ज़रूर सुनाऊंगा. तो इत्तेफाक़ से अली अकबर साहब भी वहां थे. तो अली अकबर साहब के साथ आप बजाएंगे क्या? तो मैंने बोला – ठीक है मैं 2 मिनट का सोलो बजाता हूं फ़िर उसके बाद मैं आपके साथ संगत करूंगा. तो मैंने 2-4 मिनट में जो सोलो बजाया कि सारे लोगों ने इतनी पसन्द की है, इतनी तालियां बजाई ज़ोर-ज़ोर से! तबस्सुम: और पृथ्वी थिएटर में क़दम जम गए! शंकर: क़दम जम गए. वहां से हमारी ज़िन्दगी ये शुरू होके रही. अब थिएटर में जाते रहे टूर पर. तो इत्तेफ़ाक़ से राज साहब ने पिक्चर शुरू किया यानि ‘बरसात’. तो हरदम मिलते थे कि भाई गाने पसन्द आयेंगे तो मैं लूंगा, तुम बनाते रहो. तो ऐसे कई गाने बनाए लेकिन उनको कभी पसन्द आये ही नहीं. हम उनको कहते कि भाई आप बनवाते हैं लेकिन लेते तो हैं नहीं! इत्तेफ़ाक़ से हम पूना गए एक वक़्त थिएटर के साथ. तो रात का वक़्त है, मैंने बाजा लिया. बाजा लेकर बोला – राज साहब! बैठिए, अब ये धुन सुनिए ज़रा – आपको कैसी लगती है! भले ही मत लीजिए लेकिन सुन लीजिए. गाना मैंने वो – ‘अम्बुवा का पेड़ है, वोई मुंडेर है, आजा मेरे बालमा, अब काहे को देर है’ ये गाना मैंने सुनाया. जैसे सुनते ही कहा कि भाई! अपन बम्बई चलते हैं और गाने को रिकॉर्ड करते हैं. तो बस फ़िर बम्बई चले आ गए. तो आने के बाद, और वाक़ई वो सीरियस उस गाने के पीछे लग गए – भाई वो गाना ज़रा सुनाओ! तो उस गाने के लिए हसरत मियां लिखने के लिए आए.
तबस्सुम: अच्छा तो फ़िर हसरत भाई ने उस धुन पर बोल कौन से लिखे? शंकर: जिया बेक़रार है, छायी बहार है, आजा मोरे बालमा, तेरा इंतज़ार है.
तबस्सुम: ओके! ये तो एवरग्रीन गाना था. शंकर: जी हां.
तबस्सुम: शंकरजी - एक संगीतकार – यहां बैठे हुए हैं और साज़ भी यहां मौज़ूद है. तो आपकी मौज़ूदगी का और साज़ होने का फ़ायदा हम उठाते हैं. तो मैं फ़रमाइश करूं कि आप हमें बताएं कि आपने “ये अम्बुआ का पेड – जिया बेक़रार” कैसे बनाया?
शंकर: आइए..... (हारमोनियम बजाकर गुनगुनाते हैं ‘अम्बुवा का पेड़ है, जिया बेक़रार है, छायी बहार है, आजा मोरे बालमा, अब काहे को देर है, जिया बेक़रार है.’ तबस्सुम: आइये शंकरजी! अह्ह्ह्ह्ह.... शंकरजी आज भी हम जब भी ये कहते हैं कि शंकरजी आ गए तो लोग कहते हैं – कौन शंकर-जयकिशन की जोडी वाले!? तो मैं ये जान सकती हूं कि ये जोड़ी कैसे बनी?
शंकर: ये तो ऐसा है कि जब..... थिएटर में मैं काम किया करता था तो हारमोनियम बजाने वालों की ज़रूरत थी. तो उस वक़्त मैंने जयकिशनजी को वहां काम के लिए ले आया. जब लाया तो उनको पापाजी ने रख लिया. बस उसके साथ हमारी ये जोड़ी जो बनी है, जैसे बरसात शुरू हुई है तो आज तक बरसात ही बरसात, बरसात ही बरसात होती रही है. अब हाल ये है कि दोनों जो मिलकर काम करते थे लेकिन ये कभी नहीं सोचा कि वो कर रहा है या मैं कर रहा हूं. ऐसे कभी दिमाग़ में हमारे ख़याल नहीं आए. यही सोचके करते थे कि हमारा नाम होना चाहिए, हमें कामयाबी मिलना चाहिए और ख़ूब हमारे दुनिया में चर्चे होना चाहिए. यही दिल में हमारे.........
तबस्सुम: और इस मक़सद में तो कामयाबी मिली. अच्छा शंकरजी, जैसे शंकर-जयकिशन संगीतकारों की जोड़ी मशहूर हुई इसी तरह दो राइटर भी आपके साथ जुड़े रहे हमेशा – शैलेन्द्रजी और हसरत जयपुरीजी. हम ये जान सकते हैं कि इन दोनों राइटरों का इस्तेमाल आप लोग कैसे करते थे? क्या एक राइटर आपके साथ और एक जयकिशनजी के साथ?
शंकर: नहीं, ऐसा कुछ नहीं. बात ऐसी है, शैलेन्द्र टाइप के गाने जो हैं वो हम शैलेन्द्र को दिया करते थे और हसरत टाइप के गाने वो हसरत को दिया करते थे. तबस्सुम: अब मैं दोनों के टाइप का फ़र्क़ जानना चाहूं तो? शंकर: जी हां! मसलन जैसे शैलेन्द्र जो है – ‘होंठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफ़ाई रहती है, हम उस देश के वासी हैं, जिस देश में गंगा बहती है’ और हसरत का है – ‘तेरी प्यारी-प्यारी सूरत को, किसी की नज़र ना लगे, चश्म-ए-बद्दूर’
तबस्सुम: अच्छा! यानि इसमें तग़ज़्ज़ुल(?) और रोमांस ज़्यादा है.
शंकर: जी हां.
तबस्सुम: अच्छा.
शंकर: वैसे ये दोनों ही एक-दूसरे से कोई कम नहीं थे. और मैं समझता हूं ये 2 राइटरों ने नाम किया और जितने गाने उनके चले, शायद ही मैं समझता हूं कि..... ऐसा कम है. तबस्सुम: अच्छा शंकरजी! हमें ये भी बताइए, जब आप फिल्मों में आए तो उस ज़माने की मशहूर-मशहूर आवाज़ें कौन सी थीं?
शंकर: उस वक़्त तो मेरे ख़याल से शमशाद बाई थी, ज़ोहरा बाई, अमीरबाई कर्नाटक और राजकुमारी और खुर्शीद, सुरैया और नूरजहां भी थी.
तबस्सुम: जी.
शंकर: तो ऐसे बड़े-बड़े गाने वाले थे. लेकिन एक दिन जुपिटर स्टूडियो में मैं गया था तो एक लड़की को मैंने देखा जो हुस्नलालजी के यहां वो अपनी आवाज़ सुनाने के लिए आयी थी.
तबस्सुम: हुस्नलाल-भगतराम की जोड़ी की आप बात कर रहे हैं. शंकर: जी हां! ग्रेट लोग थे. तो वहां पर ये अपना आवाज़ सुनाया उन्होंने तो उन्होंने पसन्द नहीं किया. और वो वापस लौट गयी. तो मेरे दिमाग़ में नहीं मालूम वो आवाज़ क्यों रही, क्या है, जब ये गाना मैंने ‘बरसात’ का बनाया ‘जिया बेक़रार है’ तब उसी लड़की को मैंने बुलाया. अच्छा जब बुलाया तो आप समझेंगी नहीं कि ये लड़की गाना गायेगी या गा सकती है. ऐसी उसमें कुछ बातें नज़र नहीं आ रही थीं.
तबस्सुम: मैं आपसे यही बात करने वाली थी कि तब उस ज़माने की मशहूर आवाज़ों को न लेते हुए आपने ये गाना लताजी से गवाने का फैसला क्यों किया? शंकर: इसलिए तबस्सुम! बात ये है के मेरे में बचपन से ही कुछ ऐसी बातें हैं. क्योंकि ठीक है, वो तो नाम वाले हैं तो हैं. लेकिन उस वक़्त मेरे दिमाग़ में आया कि मैं खुद नया, मेरी ज़िन्दगी का खुद ठिकाना नहीं था. लेकिन मैंने उस लड़की की आवाज़ को पसन्द किया. इसीलिये पसन्द किया, मेरे दिमाग़ में था कि वही गायेगी. उसको एक गाने के लिए ले आये हैं, हमने सारे ही गाने उससे गवाये हैं. वो है लता मंगेशकर.

तबस्सुम: मैं अब ये जानना चाहूंगी कि उस ज़माने में संगीतकारों का, गायकों का आपस में रिलेशन क्या हुआ करता था?
शंकर: उस वक़्त बहुत अच्छा था.
तबस्सुम: बिल्कुल गुरु-शिष्य!
शंकर: बहुत, बिल्कुल गुरु और शिष्य की तरह. एक दूसरे का अदब करना, एक दूसरे को मान देना, छोटे-बड़े का खयाल करना, ये तमाम चीज़ें थीं. और म्यूज़िक डायरॆक्टरों में बड़ा प्यार था. और सिंगरों में भी एक-दूसरे में मिलना-जुलना बहुत अच्छा था.
तबस्सुम: शंकरजी! आपने फिल्म जगत में प्लेबैक की दुनिया में और अभी तो बहुत सी आवाज़ें .... अअ.... अता की हैं!
शंकर: हां! सी.एच.आत्मा को जब हमने ले आए तो पंचोली साहब की क्या पोज़ीशन और क्या उनकी अहमियत थी. उस वक़्त वो तो इतने लम्बे थे मेरे से, मैं तो छोटा सा एक झाड़ के नीचे खड़ा हूं ऐसा लगता था. तो उन्होंने पूछा – अरे तुम तो अभी नए-नए आया और तुमे नयों को गवा रहे? तो मैं बोला – पंचोली साहब! हमें इसी को गवाना है. तो उन्होंने बोले – तुम्हारी.... हिम्मत की दाद देनी चाहिए – तुम नए होकर खुद नयों को गवा रहे! आपने सुना होगा सी.एच.आत्मा को भी. तो उसके जैसे गवा दिए हमने. ये भी चल गया है. तो ऐसे ही कितने......... तबस्सुम: शारदाजी की आवाज़ में ऐसी कौनसी और खास बात थी कि आपने उन्हें चांस दिया?
शंकर: जैसे हमने लता को लाया, हमने कोई खूबी तो नहीं देखा उसमें. बग़ैर देखे ही ले आया. इसीलिए लाया कि उनमें जो उनकी शारदा की आवाज़ में जो है एक अपना ढंग सबसे बड़ा निराला था.

ग़ाना दिखाया गया..... देखो मेरा दिल मचल गया (शारदा, फिल्म - सूरज)

तबस्सुम: फिल्मों की दुनिया से ताल्लुक़ रखने वाले हर मशहूर आदमी के बारे में उसके दर्शक ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी हासिल करना चाहते हैं. और काफ़ी बातें उन्हें मालूम भी हो जाती हैं. लेकिन शंकरजी आपके परिवार के बारे में, आपकी फैमिली के बारे में लोगों को आजतक ज़्यादा डिटेल्स नहीं मालूम हुईं. इसकी वज़ह?
शंकर: ऐसा है, जो आदमी फिल्म लाइन में 37 इअर्स जो गुज़ारा है और फिल्म की एक-एक बात उसे मालूम है कि वो कैसा फिल्म लाइन है, कैसे रहते हैं और क्या बात करते हैं, तो मैं कैसे ग़लती कर सकता हूं कि अपनी फैमिली को फिल्म लाइन में ले आऊं? जहां का काम वहीं करो, अच्छा है, इस मुसीबत में क्यों डालो, हम जो पड़ गए मुसीबत में!? ये तो वक़्त की बात है, अच्छा काम किए हैं – अब तक नज़र आ रहे हैं. वर्ना यहां तो कितने आए और कितने चले गए!
तबस्सुम: किसी भी गाने की पहली चीज़ सिचुएशन, उसके बाद बोल और तीसरा नम्बर आता है धुन का - लोगों का ये खयाल है, आप इससे कहां तक सहमत हैं? शंकर: ऐसा है कि हम लोग जो करते हैं, पहले धुन बनाते हैं. शुरु से ही धुन बनाते हैं. तबस्सुम: यानि हमने जिस चीज़ को तीसरी चीज़ कहा, वो आपके लिये पहली है! शंकर: पहली है. इसलिए कि उससे नया वज़न बनता है, नया रिदम बनता है, नया ढंग हो जाता है. और उसमें लिखने वाले को भी एक...अ.... याने लय और स्टाइल अलग हो जाता है. तो उससे क्या होता है कि समझो, राइटर जो है, या दादरा होता है या रूपक होता है या कहरवा, ये तीन ही चीज़ें होती हैं उनके लिए. तो उसपे लिखने के बाद यदि हम गाना लें तो वज़न तो एक जैसे ही आयेगा. उसमें बदलने में बड़ी तकलीफ होती है. तबस्सुम: वैरायटी कम मिलेगी! शंकर: जी हां. तो इसलिए जैसे मात्रे हैं ता-ता-ता, त-ता-तिक-ता, ता-ता. तो ये वज़न राइटर को कैसे आयेगा? जैसे ‘कैसे जाऊं, कैसे मानूं, आजा-आजा’. तो ये रिदम जो है इसपे जो बोल आने से ज़रूर है कि वो गाना अलग हो जायेगा. इसीलिए हम लोगों को आदत हो गई है कि वज़न पे गाना लिखना. लेकिन लिखने में बड़ी तकलीफ होती है. क्योंकि शायर सोचता है कि इसमें कैसे लायें हम बोल. इसमें रिदम टूटता है, ये बिचारे उनको बड़ी परेशानी होती है. लेकिन आखिर वो गाना.....

ग़ाना दिखाया गया..... गीत गाता हूं मैं (लाल पत्थर)

तबस्सुम: अच्छा शंकरजी, क्या आप यह नहीं मानते कि शायर को इतनी फ्रीडम दी जाए कि वो मीटर पे न लिखे, पहले गाना लिखे तो उसके थॉट्स की उड़ान कुछ ज़्यादा ऊंची होगी? शंकर: नहीं तो उसमें हमारी ज़िन्दगी में अच्छे गाने बहुत अच्छे होते हैं. लेकिन वो मीटर जो है, लोगों तक पहुंचता नहीं है फिर. लोग याद नहीं करते उसे. जैसे, वैसे बहुत से हमारे गाने, कम-से-कम 100 गानों में से 75 गाने जो हैं, रिदम पे लिखे हुए हैं, वज़न पे.
तबस्सुम: यानि लोगों की तारीफ़ हो जाती है लेकिन गाना ज़बान पर चढ़ता नहीं है. शंकर: चढ़ता नहीं है.
तबस्सुम: अच्छा तो फिर आगे बढने से पहले एक गाना वो भी दिखा दें जिसके पहले बोल और बाद में धुन.....!? शंकर: जी हां! जी हां!

ग़ाना दिखाया गया..... जा-जा-जा मेरे बचपन... (जंगली)

तबस्सुम: गाना बनने के बाद आवाज़ का इंतख़ाब आप करते हैं या आपके प्रोड्यूसर या डायरेक्टर? शंकर: ऐसा है कि आज तक तो हमीं लोगों ने किया है. हमीं पसन्द करते हैं और अपनी पसन्द से ही आवाज़.... इसीलिए इस काम में ईमानदारी है बहुत. हमने अपना मतलब कभी नहीं देखा, ना अपना मतलब सोचा है. अगर अपना मतलब अपना सोचते तो शायद इतने साल यहां चलते भी नहीं. उसका सवाल ही नहीं है. लेकिन आजकल जो वक़्त आ गया है, वो वक़्त ऐसा आया है जो कि अब म्यूज़िक डायरेक्टर की कुछ नहीं चलती है. ना म्यूज़िक डायरेक्टर कुछ समझता है, ऐसे भी नहीं समझते हैं इण्डस्ट्री में हमारी इस वक़्त. वो तो समझते हैं, हम जो आइडिया दें उसको बनाओ और उसको बनाकर हमें दो! वो ही सबसे अच्छा है. तो आप देख रहे हैं आज के ज़माने में क्या हो रहा है – म्यूज़िक का तो सत्यानाश ही हो रहा है.
तबस्सुम: आप अपनी आवाज़ अपनी पसन्द से पसन्द करते हैं? शंकर: जी? तबस्सुम: गाना बनने के बाद आवाज़ का इंतख़ाब आप खुद करते हैं?
शंकर: जी! तबस्सुम: तो उसमें आपने कभी वेराइटी देने की कोशिश की? जैसे राजकपूरजी के साथ जुड़े हुए थे मुकेश. तो उसमें आपने कभी ये कोशिश नहीं की कि आप मुकेशजी के अलावा राजकपूरजी के चेहरे के लिए किसी और से गवाएं? शंकर: हां! मन्ना डे, मन्ना डे को गवाये! बिल्कुल! मन्ना डे-जी की आवाज़ मैच होती है. और ऐसा कोई नहीं है कि ज़रूरी कि मुकेश ही गाए या मन्ना डे ही गाए. ऐसा कुछ नहीं. जैसे गाना बनता है, वैसा उसके हिसाब से आवाज़ को हम लेते हैं.

ग़ाना दिखाया गया..... छम-छम बाजे रे पायलिया... (जाने-अनजाने)

तबस्सुम: आप अपने म्यूज़िक में शास्त्रीय संगीत का भी बहुत इस्तेमाल करते हैं. इसकी कोई ख़ास वज़ह? शंकर: ख़ास वज़ह ही यह है कि हमने सीखा ही शास्त्रीय म्यूज़िक पहले है. सबसे पहले श्री गणेशाय नमः जो कहते हैं वोही हमने किया है. पहले क्लासिकल सीखा है, उसके बाद ही फ़िर सारा म्यूज़िक आया है हमको. वर्ना जिसकी बुनियाद ही मज़बूत नहीं, मैं समझता हूं, वो कैसे लोगों को याद रहेगा?
तबस्सुम: लेकिन फ़िल्म लाइन को लोग जो क़रीब से जानते हैं उनका ये खयाल है कि क्लासिकल गाने जो थे वो जयकिशनजी बनाते थे और आप वॆस्टर्न टच लिए हुए!? शंकर: नहीं-नहीं, ऐसा ज़रूरी नहीं है. तबस्सुम: तो क्या हम ये जान सकते हैं कि आप काम को आप कैसे करते थे? शंकर: ऐसा है कि अगर मैं मर जाता, जयकिशन रहता तो उससे भी यही सवाल किया जाता (हंसते हैं). है कि नहीं – बताइए!? सवाल तो यही होता! तो इसमें कोई ऐसा नहीं है. क्लासिकल वो भी जानते थे, क्लासिकल मैं भी जानता था. लेकिन मिलकर ये काम होता है. और क्या है, ज़्यादातर मैंने ज़्यादा क्लासिकल को मैंने ज़्यादा मेहनत किया है. और ये डांस वगैरह के जितने नम्बर देखते हैं आप बड़े-बड़े बहुत मुश्किल, वो तक़रीबन मैंने ही उसको तैयार किया है.
तबस्सुम: अच्छा कभी ऐसा भी हुआ कि एक गाने में मुखड़ा आपने बनाया और अंतरा उन्होंने बनाया हो? शंकर: जी हां! तबस्सुम: ऐसा भी हुआ है? शंकर: जैसे ‘प्यार हुआ इकरार हुआ..’. उसमें झगड़े भी हुए थे बहुत. टीमवर्क था हम दोनों का. दिल में कभी कोई बात नहीं रखते थे.

तबस्सुम: अच्छा शंकरजी, लोग ये महसूस करते हैं कि जयकिशनजी के बाद फिल्म जगत में आपका नाम भी कम नज़र आने लग गया है.
शंकर: उसकी वज़ह है. आपको इससे पहले भी मैंने बतलाया जैसे कि आजकल के वक़्त में एक अच्छा आदमी नाम किया है और अच्छा वक़्त देखा है, तो ऐसे काम के लिए किसी के घर जाना, किसी की ख़ुशामद करना, किसी के पास बैठे रहना, ये मैं समझता हूं बेइज़्ज़ती है. इंसान यदि शान से काम करना हो तो काम का मुक़ाबला कीजिए ना! काम अच्छा चाहिए तो हम हैं! चाहे आज हो चाहे आज से 25 साल पहले का काम भी करना हो तो हम करके दिखा सकते हैं. और आज भी हमारा म्यूज़िक जो हमने किया, आजभी आज के गानों से हमारा रिदम उतना ही फास्ट है.

(रिदम तथा गाने के कम्पोज़िंग का तरीका गुनगुना कर तथा डमी शब्दों के ज़रिए दिखाते हैं)

तबस्सुम: अच्छा शंकरजी, ये बताइए कि किसी चीज़ की कामयाबी का दारोमदार म्यूज़िक पर कितना होता है? शंकर: पचास प्रतिशत होता है. 50 पर्सॆंट. ज़रूर! आजतक हिस्ट्री देख लीजिए आप. जो भी पिक्चरें चलीं, म्यूज़िक के ऊपर (....?) हुई और वोही चलीं.
तबस्सुम: आपने इतने बेशुमार गाने बनाए हैं पिछले 37 सालों में. तो क्या हम जान सकते हैं कि आपको अपनी कौनसी धुन सबसे ज़्यादा अच्छी लगती है, और क्यों!?
शंकर: अब ये सवाल तो ऐसा है कि अगर मां को पूछें कि तुम्हारे 6 बच्चों में कौन सा बच्चा सबसे अच्छा है, तो वो कैसे बोल सकती है – बताइए ना!
ग़ाना दिखाया गया..... ज़िन्दगी एक सफर है सुहाना.... (अन्दाज़)

................................. समाप्त .........................................
Custom Search